बहन तलाशती गर्भवती ग्राहक, भाई भ्रूण जांच कराने ले जाता नोएडा

Sister searches pregnant customer, brother takes Noida for sex determination

198
PNDT MTP Ultrasound
Picture: Pixabay
2 min. read

भ्रूण (Fetus) जांच मामले में एक के बाद एक मामले सामने आ रहे है, जिससे पुलिस के अब पसीने छूटने लगे हैं। एक नए मामले में बहन दाई के तौर पर काम करने वाली महिला गर्भवती (Pregnant) ग्राहक को तलाशती, जबकि उसका भाई (दलाल) जांच के लिए नोएडा ले जाता था। आशंका जताई जा रही है कि उक्त महिला आरोपित डॉ. हरिओम के साथ हो सकती है।

इनकी तलाश में पुलिस लगातार दबिश दे रही है। 19 जून को पकड़ा गया दलाल दरअसल, भ्रूण लिंग जांच कराने वाले इस अंतरराज्यीय गिरोह पर शिकंजा कसने के लिए स्वास्थ्य विभाग लंबे समय से प्रयास कर रहा था। विभाग को सूचना मिली कि गांव कुलासी का निवासी चांद सिंह इस गिरोह का सदस्य है। विभाग ने योजना बनाकर फर्जी ग्राहक का चांद से संपर्क कराया।

गत 18 जून को 70 हजार रुपये में सौदा हुआ। अगले दिन 19 जून को दलाल उक्त महिला को जांच के लिए नोएडा के सेक्टर-49 स्थित एक अस्पताल ले गया। जांच के बाद आते वक्त स्वास्थ्य विभाग और पुलिस की संयुक्त टीम ने उसे टीकरी बार्डर पर दबोच लिया। सोनीपत व मेरठ भी दी दबिश दलाल चांंद सिंह के हत्थे चढ़ने के बाद पुलिस व विभाग की संयुक्त टीम ने उसकी निशानदेही पर दबिश देनी शुरू की।

येँ भी पढ़ें  : थोक दवा, मेडिकल डिवाइस पार्क का विकास

नोएडा से अल्ट्रासाउंड मशीन बरामद की गई। भ्रूण लिंग जांच करने वाले मुख्य आरोपित डॉ. हरिओम को पकड़ने के लिए संभावित ठिकानों पर दबिश दी लेकिन वह नहीं मिला। गिरोह के तार हरियाणा, दिल्ली और यूपी तक जुड़े हैं। इस मामले में पुलिस को केवल डॉक्टर ही नहीं, गिरोह के अन्य सदस्यों और जांच करने वाली महिलाओं की भी तलाश है। इनकी तलाश में पुलिस हरियाणा के सोनीपत, यूपी के मेरठ, नोएडा और अन्य क्षेत्रों में दबिश दे चुकी है लेकिन कोई अन्य गिरफ्तारी नहीं हो सकी है।

दाई तलाशती थी गर्भवती ग्राहक आरोपित चांद सिंह 19 जून से लेकर अब तक पुलिस की गिरफ्त में है। मामले में अब एक और बात निकलकर सामने आई है। बताते हैं कि 18 जून को डील करते समय चांद सिंह के साथ एक महिला भी थी। हालांकि 19 को वह साथ नहीं गई। यह महिला चांद सिंह की बहन लगती है। दरअसल, 50 से ऊपर आयु की यह महिला दाई के तौर पर काम कर चुकी है।

भ्रूण लिंग जांच में दोषी ठहराई जा चुकी बहादुरगढ़ की एक महिला डॉक्टर के पास यह काम करती थी। यह महिला (दाई) गर्भवती महिलाएं तलाशती और चांद सिंह उन्हें नोएडा जांच के लिए ले जाता। मुख्य आरोपित डॉ. हरिओम से भी इस महिला की रिश्तेदारी है। आरोपित चिकित्सक नहीं मिली : डिप्टी सीएमओ डिप्टी सिविल सर्जन (पीएनडीटी) डॉ. अचल त्रिपाठी ने कहा कि आरोपित चांद को लेकर पुलिस के साथ कई जगह दबिश दी जा चुकी है, लेकिन आरोपित डॉक्टर मिल नहीं पाया है।

मामले में एक महिला भी शामिल है। गिरोह के पर्दाफाश होेन में यह महिला अहम भूमिका निभा सकती है। अन्य आरोपी भी जल्दी ही गिरफ्त में होंगे : पुलिस एमआईई चौकी प्रभारी पवनवीर सिंह ने बताया कि फिलहाल आरोपित चांद सिंह रिमांड पर है। उससे पूछताछ की जा रही है। शनिवार को इसे अदालत में पेश किया जाएगा। मामले के अन्य आरोपितों को भी गिरफ्तार करने के लिए हर संभव प्रयास किए जा रहे हैं। जल्द ही डॉक्टर व गिरोह के अन्य सदस्य गिरफ्त में होंगे।

The Health Master is now on Telegram. For latest update on health and Pharmaceuticals, subscribe to The Health Master on Telegram.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here