रिलायंस अब ऑनलाइन दवा बेचने के बिजनेस में

Reliance is now in the business of selling drugs online

208
Medicine online
Picture: Pixabay

नई दिल्ली। कोरोना काल में रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड ने अपने व्यापार में जबरदस्त बढ़ोतरी की है, कंपनी के राजस्व में पिछले कुछ महीनों में जबरदस्त बढ़ोतरी हुई है और कंपनी के मालिक मुकेश अंबानी दुनिया के 5 सबसे अमीर व्यक्तियों की लिस्ट में शामिल हो गए हैं।

एक के बाद कई बड़ी-बड़ी कंपनियों ने रिलायंस में निवेश किया, जिसकी वजह से रिलायंस के राजस्व में बढ़ोतरी हुई और यह कर्जमुक्त कंपनी बन गई है। अब रिलायंस ने बड़ी ऑनलाइन फार्मेसी कंपनी नेटमेड्स में बड़ा निवेश किया है। रिलायंस ने नेटमेड्स में 6.2 बिलियन रुपए का निवेश किया है। इससे पहले अमेजन ने भारत में ऑनलाइन दवा बेचने के लिए ऑनलाइन सेवा की शुरुआत का ऐलान किया था, जिसके बाद रिलायंस ने यह बड़ी डील की है।

येँ भी पढ़ें  : Vitamin-E: इम्युनिटी बढ़ाने में लाभकारी, जानें किसे कितनी जरूरत

रिलायंस की ओर से कहा गया है कि हमारा 60 फीसदी निवेश विटालिक हेल्थ प्राइवेट लिमिटेड में और 100 फीसदी मालिकाना हक इसकी सहयोगी कंपनपी में है। बता दें कि विटालिक और इसकी सहयोगी कंपनियों को नेटमेड्स के नाम से जाना जाता है, जिसकी शुरुआत 2015 में की गई थी। गौरतलब है कि कोरोना संकट के समय में ऑनलाइन शॉपिंग का चलन काफी बढ़ा है। जिसकी वजह से अमेजन, वॉलमार्ट की मालिकाना हक वाली फ्लिपकार्ट ,रिलायंस ने ग्रॉसरी सेवा, जियो मार्ट के जरिए ऑनलाइन शॉपिंग की बड़ी रेंज लॉन्च की है।

हालांकि अभी तक भारत में ऑनलाइन दवा को बेचने के लिए नियमों को अंतिम रूप नहीं दिया गया है। लेकिन जिस तरह से भारत में ऑनलाइन दवा बेचने वाली कंपनियां मेडलाइफ, नेटमेड्स, फार्मईजी, ई-फारेसीज, 1एमजी ने देश में अपने कदम बढ़ाए हैं, उसके बाद माना जा रहा है कि जल्द ही भारत में ऑनलाइन दवा बेचने के नियमों को बदला जाएगा।

The Health Master is now on Telegram. For latest update on health and Pharmaceuticals, subscribe to The Health Master on Telegram.