Kidney Stone: पथरी हैं तो, क्‍या खाएं और क्‍या न खाएं

ज्यादा प्रोटीन के सेवन से यूरिन में सामान्य स्थिति से कहीं ज्यादा कैल्शियम बाहर निकल जाता है।

256
Kidney Organ Health
Picture: Pixabay

Last Updated on February 8, 2021 by The Health Master

Kidney Stone: पथरी हैं तो, क्‍या खाएं और क्‍या न खाएं

किडनी में स्टोन होना एक कॉमन बीमारी है। किडनी शरीर का एक अहम अंग है। इसका काम ब्लड को फिल्टर करना होता है।

किडनी द्वारा ब्लड फिल्टरेशन के दौरान सोडियम, कैल्शियम और अन्य दूसरे मिनरल्स बारीक कणों के रूप में यूरेटर के माध्यम से ब्लैडर तक पहुंचते हैं, जो पेशाब के जरिये शरीर से बाहर निकल जाते हैं।

जब ब्लड में इन तत्वों की मात्रा बढ़ जाती है तो ये किडनी में जमा होकर पत्थर के टुकड़ों जैसा आकार ले लेते हैं, जिसके कारण ब्लैडर तक यूरिन पहुंचने के रास्ते में रुकावट आती है और किडनी स्टोन यानी गुर्दे की पथरी की समस्या पैदा हो जाती है।

इस समस्या में खाने-पीने में काफी एहत‍ियात रखने की जरूरत होती है। आज हम आपको बताने जा रहे हैं क‍ि क‍िडनी स्टोन के पेशेंट को क्या खाना चाह‍िए और क्या नहीं।

Doctor
Picture: Pixabay

किडनी स्टोन के लक्षण

  • पेशाब करते समय हल्का दर्द
  • बार-बार टॉयलेट लगना
  • पेट में तेज दर्द
  • भूख नहीं लगना
  • जी मचलाना
  • बुखार आना

किडनी में स्टोन होने पर क्या न खाएं

कोल्ड ड्रिंक और कैफीन का न करें सेवन

डिहाइड्रेशन की एक वजह कैफीन भी होती है, इसलिए किडनी में स्टोन होने पर बहुत ज्यादा चाय और कॉफी पीना बंद कर दें। कोल्ड ड्रिंक पीना भी अवॉइड करें। इसमें मौजूद फॉस्फोरिक एसिड से स्टोन होने का खतरा ज्यादा रहता है।

नॉनवेज से करें परहेज

नॉनवेज खाद्य पदार्थों में प्रोटीन की भरपूर मात्रा पाई जाती है। किडनी में स्टोन की समस्या होने पर अपने भोजन में प्रोटीन की मात्रा को कम कर दें। ज्यादा प्रोटीन से किडनी पर विपरीत असर पड़ता है। 

ज्यादा प्रोटीन के सेवन से यूरिन में सामान्य स्थिति से कहीं ज्यादा कैल्शियम बाहर निकल जाता है।

प्रोटीन युक्त भोजन में मौजूद प्यूरीन के कारण नॉनवेज के सेवन से पथरी के मरीज के शरीर में प्यूरीन की मात्रा बढ़ जाती है, जिससे यूरिक एसिड का लेवल बढ़ जाता है, नतीजतन स्टोन का आकार बड़ा हो जाता है।

नमक का सेवन कम करें

किडनी में स्टोन की समस्या होने पर नमक कम खाएं। टमाटर का रस, डिब्बाबंद खाद्य पदार्थ, चाइनीज और मैक्सिकन भोजन और रिफाइंड खाद्य पदार्थ में नमक बहुत उच्च मात्रा में होते हैं। कम नमक या अनसाल्टेड खाद्य पदार्थों को खाएं।

विटामिन-सी और ऑक्सलेट वाली चीजों से रहे दूर

पथरी की शिकायत होने पर ऐसी चीजों के सेवन से बचें, जिनमें ऑक्सलेट और विटामिन-सी पाए जाते हैं। ऑक्सलेट कैल्शियम को जमा कर लेता है और यूरीन में नहीं जाने देता है।

पालक, साबुत अनाज, चॉकलेट, टमाटर में ऑक्सलेट भरपूर मात्रा में मौजूद होता है। इन्हें खाने से बचें। विटामिन-सी के ज्यादा सेवन से भी स्‍टोन बनता है।

इसलिए विटामिन-सी का एक निश्चित मात्रा में सेवन करें। टमाटर के बीज, बैंगन के बीज, चौलाई, आंवला, सोयाबीन, अजमोद, चीकू, कद्दू, सूखे बींस, कच्चा चावल, उड़द की दाल और चने का ज्यादा सेवन करने से स्टोन की समस्या बढ़ सकती है।

हाई फॉस्फोरस वाले पदार्थों को कहें न

हाई फास्फोरस वाले पदार्थ चॉकलेट, नट्स, कार्बोनेटेड ड्रिक्स, दूध और दूध से बने पदार्थ दही, पनीर , मक्खन, सोया पनीर, सोया दही, फास्ट फूड, टॉफी, कैन सूप, नूडल, फ्राई फ़ूड, जंक फ़ूड, चिप्स का सेवन किडनी में स्टोन होने पर नहीं करना चाहिए।

इसके अलावा मूंगफली,काजू, किशमिश, मुनक्का जैसे ड्राई फूट के सेवन से परहेज करें। किडनी स्टोन होने पर क्या खाएं-

ज्यादा-से-ज्यादा लें तरल पदार्थ

क‍िडनी स्टोन की श‍िकायत होने पर एक दिन में कम-से-कम 12 गिलास पानी पीने की कोशिश करें। साथ ही ज्यादा से ज्यादा तरल पदार्थ लें। पानी स्टोन बनाने वाले कैम‍िकल को गलाने में मदद करता है।

सिट्रस एस‍िड वाली चीजों का सेवन करें

खट्टे फल और उनके रस स्वाभाविक रूप से सिट्रस के कारण क‍िडनी स्टोन को कम करने या रोकने में मदद कर सकते हैं।

नींबू, संतरे और अंगूर सिट्रस के अच्छे स्रोत हैं। संतरे का जूस, मौसमी का जूस, ताजा नींबू पानी, फलों का ताजा रस विशेष रूप से पिएं।

तुलसी का सेवन करें

तुलसी की पत्तियों में कुछ ऐसे तत्व मौजूद होते हैं जो यूरिक एसिड के लेवल को स्थिर करने में सक्षम होते हैं, जिसके कारण किडनी में स्टोन नहीं बन पाते। तुलसी की पत्तियों में पाया जाने वाला ऐसिटिक एसिड किडनी के स्टोन को पिघलाने और खत्म करने में मदद करता है।

प्रतिदिन एक चम्मच तुलसी का रस पीने से किडनी के स्टोन दूर करने में मदद मिलती है।

विटामिन-डी करेगा कैल्शियम एब्जॉर्ब करने में मदद

साथ ही रोजाना के खाने में विटामिन-डी की उच्च मात्रा वाले खाद्य पदार्थों को शामिल करना न भूलें। विटामिन-डी शरीर को ज्यादा कैल्शियम एब्जॉर्ब करने में मदद करता है। यह फैटवाली मछलियों, जैसे- सालमन समेत अंडे की जर्दी और पनीर में पाया जाता है।


The Health Master is now on Telegram. For latest update on health and Pharmaceuticals, subscribe to The Health Master on Telegram.

Follow and connect with us on Facebook and Linkedin

Go to main website, click here

Subscribe for daily free updates, click here

For daily free updates on WhatsApp, click here

Subscribe here for daily updates
Loading