BP: ब्‍लड प्रेशर check करते समय इन जरूरी बातों का रखें ध्यान: Must read

अगर ब्लड प्रेशर अधिक हो तो भी समस्या पैदा हो सकती है। वहीं लो ब्लड प्रेशर हो तो भी कई दिक्कतों का सामना करना पड़ सकता है

234
Blood Pressure BP
Picture: Pixabay

Last Updated on August 1, 2021 by The Health Master

ब्‍लड प्रेशर check करते समय इन जरूरी बातों का रखें ध्यान

हमारे शरीर में सभी अंग सही प्रकार कार्य करते रहें। इसके लिए कई चीजों का ध्यान रखना बेहद जरूरी हो जाता है। इसमें ब्लड प्रेशर का नियंत्रित रहना भी बहुत आवश्यक है। अगर ब्लड प्रेशर अधिक हो तो भी समस्या पैदा हो सकती है। वहीं लो ब्लड प्रेशर हो तो भी कई दिक्कतों का सामना करना पड़ सकता है। ब्लड प्रेशर का सीधा असर हृदय से जुड़ा है।

ऐसे में ब्लड प्रेशर को संतुलित करने के लिए एक सही खानपान के साथ – साथ समय पर इसकी जांच कराना भी आवश्यक है। ऐसे में हर बार बाहर जाकर ब्लड प्रेशर की जांच कराने में भी काफी पैसा खर्च होता है। इसलिए आज हम आपको बताएंगे कि आप किस तरह घर पर ही ब्लड प्रेशर की जांच घर पर ही कर सकते हैं।

ब्लड प्रेशर क्या है

आपका हृदय शरीर के बाकी अंगों तक जिस क्षमता में ब्लड पंप करता है और पहुंचता है, इसे ही ब्लड प्रेशर कहा जाता है। ब्लड प्रेशर शरीर के उन महत्वपूर्ण संकेतों में से एक है जिसके जरिए पता चलता है कि शरीर ठीक से काम कर रहा है या नहीं।

ऐसे में अगर आपका ब्लड प्रेशर हाई है तो भी एक समस्या है और अगर कम भी है तो भी यह समस्या है। लेकिन इसके लिए ब्लड प्रेशर की बिल्कुल सटीक रीडिंग होना बेहद जरूरी है। ऐसे में सही ब्लड प्रेशर की जांच करने के कई तरीके हैं जिनके बारे में हम आपको नीचे बताएंगे।

Blood BP Apparatus Medical Medicine
Picture: Pixabay

किन लोगों को करनी चाहिए अपने ब्लड प्रेशर की जांच

माना जाता है कि ब्लड प्रेशर की जांच करने से पहले आप डॉक्टर की सलाह लें। इसके अलावा अगर आपको नीचे बताई जा रही समस्याओं में से कोई है, तो भी आप ब्लड प्रेशर की जांच कर सकते हैं।

  • लो ब्लड प्रेशर, हाई ब्लड प्रेशर और हृदय से जुड़े रोगी ब्लड प्रेशर की जांच करा सकते हैं।
  • ऐसे लोग जो किसी तरह की दवा ले रहे हों, और दवा में बदलाव किया गया हो।
  • तनाव में रहने वाले लोग या ऐसे लोग जिन्हें चक्कर आने की समस्या है। वह भी जांच करा सकते हैं।
  • ऐसे लोग जिन्हें हाई ब्लड प्रेशर या लो ब्लड प्रेशर का खतरा हो। यह भी अपनी जांच समय पर जरूर कराएं।

अगर आप घर पर ही ब्लड प्रेशर की जांच करना चाहते हैं तो आप ऐसा कर सकते हैं। घर पर ही ब्लड प्रेशर चेक करने के दो तरीके है। एक है ऑटोमेटिक ब्लड प्रेशर मशीन के जरिए और दूसरा है मैन्युअल ब्लड प्रेशर की मशीन के जरिए। चलिए जानते हैं इनमें से कौन सा तरीका आपके लिए सबसे बेहतर होगा।

​ऑटोमेटिक मशीन से जुड़ी हुई कुछ दिक्कतें हो सकती हैं

  • कई मशीन केवल उल्टे हाथ पर ही काम करती है।
  • शरीर में हलचल होने पर रीडिंग के परिणाम प्रभावित हो सकते हैं।
  • कुछ ऑटोमेटिक मशीन बैटरी से चलती हैं जो काफी महंगी भी होती हैं।

ऑटोमेटिक ब्लड प्रेशर मशीन

रक्तचाप मापने का यह सबसे आसान और बेहतर तरीका है। यह मशीन गौज और कफ के साथ ही आती है। साथ ही अगर ब्लड प्रेशर मापने में कोई बाधा हो तो इसके लिए भी मशीन में एरर इंडिकेटर दिया होता है। मशीन में दिया गया कफ अपने आप ही फूल जाता है और आपको स्टेथोस्कोप की जरूरत नहीं पड़ती। जब यह मशीन अपना काम पूरा कर लेगी तो इस पर मौजूद स्क्रीन पर रक्तचाप कितना है यह दिख जाएगा।

हालांकि मशीन का उपयोग करते वक्त इस बात का ध्यान रखें कि कफ न तो ज्यादा टाइट हो और न ही ढीला। इससे रक्तचाप की रीडिंग प्रभावित हो सकती है। यह मशीन उन लोगों के लिए सही जो अकेले रहते हैं और ब्लड प्रेशर को समझने में अधिक मेहनत नहीं करना चाहते।

​मेन्युअल ब्लड प्रेशर मशीन

अगर आप इस मशीन के जरिए चेक करना चाहते हैं तो आपको इसके लिए कई चीजों की जरूरत होगी। जैसे ब्लड प्रेशर कफ एक स्क्विजेबल बैलून के साथ, एनरोइड मॉनिटर, स्टेथोस्कोप

रक्तचाप चेक करना चाहते हैं तो इससे पहले करें ये कामरक्तचाप लेने से पहले आराम करें।

अपने सामान्य रक्तचाप के बारे में जान लें। अगर आप अपना सामान्य रक्तचाप के बारे में नहीं जानते तो आप डॉक्टर से इसकी जानकारी प्राप्त करें।

इसके बाद अपने हाथ को एक टेबल के ऊपर रखें और अपनी हथेलियों को ऊपर की तरफ रहने दें।

कफ को सही तरह से फुलाने के लिए अपने बाइसेप्स पर बांधे और स्क्विजेबल बैलून को दबाएं।

एनीरॉयड मॉनिटर पर देखें और अपने सामान्य रक्तचाप से 20 या 30 एमएम तक कफ को फुलाएं।

जब कफ फूल जाए तो स्टेथोस्कोप को अपनी कोहनी के ऊपरी भाग पर फ्लैट साइड से कफ के पास रखें।

इसके बाद जैसे ही पहली पल्स बीट सुनाई दे इस पर ध्यान दें और इसे नोट कर लें। यह आपका सिस्टोलिक ब्लड प्रेशर है।

अब धीरे – धीरे बैलून को तब तक डिफ्लेट करें जब तक पल्स की आवाज आनी बंद ना हो जाए। जब यह आवाज रुक जाएगी तो यह आपका डायस्टोलिक रक्तचाप है।

ध्यान रहे मैन्युअल मशीन के जरिए ब्लड प्रेशर की जांच करने के लिए आपको मेडिकल फील्ड से आने वाले ऐसे किसी व्यक्ति की जरूरत होगी। जो मैन्युअल मशीन को चलाना जानता हो। आपको बता दें कि मैनुअल मशीन की रीडिंग में दिक्कत हो सकती है।

साथ ही इसके जरिए जांच करने में आपका समय भी अधिक खर्च होगा। इसके अलावा इस प्रक्रिया के द्वारा जांच करने पर आने वाली रीडिंग को समझना भी बेहद मुश्किल है।

Blood: शरीर में है खून की कमी? 5 सुपरफूड आपके आयेंगे काम: Must know

Expert: किडनी स्टोन से जुड़ी 9 भ्रामक बातें और उनकी सच्चाई: Let’s know

Hepatitis: Its Symptoms, Diagnosis and Prevention: Must know

Gastroenteritis: क्या होता है, जानें इसके लक्षण, कारण और बचाव: Must know

Melanoma: क्या होता है मेलेनोमा, क्या है इसके लक्षण, कारण और बचाव: Let’s know

Vitamin F: क्या होता है विटामिन F ? शरीर के लिए क्यों है important

Telegram
WhatsApp
Facebook
LinkedIn
Google-news

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner