Positive Stress: अच्छा तनाव क्या है, कब और कैसे हो सकता है: Must know

पॉजिटिव Stress जैसी चीज भी होती है. जिसे यूस्ट्रेस (Eustress) के रूप में भी जाना जाता है और ये स्ट्रेस जैसी ही भावना है.

107
Artificial intelligence Brain Health AI
Picture: Pixabay

Last Updated on October 5, 2021 by The Health Master

Positive Stress: अच्छा तनाव क्या है, कब और कैसे हो सकता है

Positive Stress: आजकल के लाइफस्टाइल में शायद ही कोई व्यक्ति हो जिसे किसी प्रकार का तनाव यानी स्ट्रेस (Stress) न हो. आमतौर पर किसी भी तरह के तनाव को बुरा माना जाता है, लेकिन स्ट्रेस हमेशा बुरा नहीं होता.

बल्कि ये तो जीवन का एक अनिवार्य हिस्सा है, जिससे बचा नहीं जा सकता. Stress दो तरह के होते हैं- अच्छा या बुरा. अच्छा स्ट्रेस काम के प्रति ऊर्जा, उत्साह और रोमांच पैदा करता है, वहीं बुरा स्ट्रेस दुखी और चिड़चिड़ा बना देता है. असल में ज्यादातर स्ट्रेस भावी चीजों की चिंता करने का नतीजा हैं.

यूके की न्यूज वेबसाइट ‘मेट्रो’ के अनुसार, सभी तरह के Stress खराब नहीं होते है. इस न्यूज रिपोर्ट में बताया गया है कि हम मानसिक रूप से ‘स्ट्रेस’ को चिंता और थकावट (Anxiety and Exhaustion) जैसी अवधारणाओं से जोड़ते हैं.

जबकि पॉजिटिव Stress जैसी चीज भी होती है. जिसे यूस्ट्रेस (Eustress) के रूप में भी जाना जाता है और ये स्ट्रेस जैसी ही भावना है.

इस रिपोर्ट में हिप्नोथेरेपिस्ट (Hypnotherapist) गेल मार्रा (Gail Marra) बताती हैं कि स्ट्रेस से डरना और हर कीमत पर इससे दूर रहना लुभावना है. लेकिन कभी-कभी बस उन भावनाओं को एक्साइटमेंट के रूप में फिर से परिभाषित करने से भारी अंतर आ सकता है.

गेल हमें उस भावना में झुकाव के लिए प्रोत्साहित करतीं हैं, वो यह भी सुझाव देती हैं कि हमारे जीवन में यूस्ट्रेस (Eustress) होने से वास्तविक लाभ हो सकते हैं.

Stress हमें प्रेरित करता है

यदि आप पूरी तरह से Stress से मुक्त हैं, तो आप हर समय स्थिर और आराम से बैठे रहेंगे. लेकिन वास्तव में काम पूरा करने के लिए आपको थोड़ा स्ट्रेस चाहिए. गेल कहती हैं, ‘स्ट्रेस सचमुच एक्शन का आह्वान है.

जब आपके शरीर में एड्रेनालाईन (फाइट या फ्लाईट हार्मोन) रिलीज करते हैं, तो आपके दिल और फेफड़ें बेहतर तरीके से काम करते हैं, जिससे वो ब्रेन और प्रमुख मांसपेशियों को ऑक्सीजन भेजते है और इससे आपको ताकत मिलती है. साथ ही देखने और सुनने में वृद्धि होती है.’

वहीं Psychologist डॉ बेकी स्पेलमैन (Dr Becky Spellman) कहती हैं, ‘पॉजिटिव स्ट्रेस आपको प्रेरणा दे सकता है. आप जानते हैं कि आप दबाव में हैं, लेकिन आप समस्या या उससे से निपटने की अपनी क्षमता के बारे में आश्वस्त हैं.

यह चुनौतीपूर्ण हो सकता है, लेकिन आपको लगता है कि इसे हासिल करना या हल करना वास्तविक रूप से संभव है.’

Stress समस्याओं को हल करने में मदद कर सकता है

Stress को स्वीकार करने और गले लगाने से आपको परेशानी को दूर करने और बेहतर निर्णय लेने में मदद मिल सकती है. गेल मार्रा (Gail Marra) हमें बताती हैं, “स्ट्रेस हमें समस्या को सुलझाने के लिए मजबूर करता है.

जब आप फ्लो में होते हैं, तो आपका अवचेतन मन व्यापक रूप से खुला होता है, वो समाधान की तलाश में पूरी तरह से लगा रहता है. एक्सपर्ट कहती हैं कि जब आप एक टाइट स्पॉट पर होते हैं, तो आपका अवचेतन और चेतन मन एक साथ जुड़ जाता है और हाइपर-ड्राइव में चला जाता है.

ऐसे में बिजली की गति से, आप अपने विकल्पों का आंकलन कर रहे होते हैं, अवसरों की तलाश कर रहे होते हैं, निर्णय और विकल्प कुछ ही सेकंड में ले सकते हैं. “

Stress पर काबू पाने से आत्मविश्वास बढ़ता है

स्ट्रेसफुल सिचुएशन से उबरने के बाद जो एड्रेनालाईन रश (adrenaline rush) आता है, वह सीधे तौर पर खुशी से भरा हुआ होता है. कई बार लंबे समय तक स्ट्रेसफुल वातावरण से गुजरना आपके आत्मविश्वास को बढ़ा सकता है.

आपको खुशी होगी कि आप ऐसा करने में कामयाब रहे हैं, इसलिए आप कुछ भी कर सकते हैं. गेल कहती हैं, ‘ये विचार और भावनाएं एंडोर्फिन, डोपामाइन, सेरोटोनिन, ऑक्सीटोसिन और फीलगुड हार्मोन को छोड़ती हैं.’

Stress से नए स्किल्स विकसित करने मदद मिलती है

गेल कहती हैं कि हम ये जरूर कहेंगे किअधिक और विनाशकारी स्ट्रेस आपके लिए अनुकूल नहीं है. लेकिन थोड़ा सा हेल्दी स्ट्रेस आपके दिमाग में विचारों को मजबूत करने में मदद कर सकता है.

साथ ही, एक बार जब आपको पता चल गया कि स्ट्रेस के बीच किसी समस्या को कैसे हल किया जाए. तो आप इसे फिर से करने के लिए तैयार रहते हैं. क्योंकि आपने नई समस्याओं से निपटने के लिए स्किल (कौशल) डेवलप किए हैं.विज्ञापन

Positive Stress आपकी हेल्थ को बूस्ट कर सकता है

गेल बताती हैं, Positive Stress शॉर्ट टर्म में आपकी हेल्थ में सुधार कर सकता है. हर कोई जानता है कि क्रोनिक स्ट्रेस अच्छी हेल्थ के विपरीत है.

हालांकि, कोर्टिसोल, जो स्ट्रेस में रिलीज होने वाला एक हार्मोन है, वो ब्लड फ्लो में शर्करा (ग्लूकोज) के रिलीज को बढ़ाता है, जो बदले में टिशूज की मरम्मत, सूजन को कम करने, मैमोरी निर्माण को बढ़ाने में मदद करता है.

साथ ही खून को नियंत्रित करने के लिए सॉल्ट और पानी के संतुलन को नियंत्रित करने में मदद करता है.

Tips for Headphone use: ENT specialist

Blood Donation के फायदे जानकर आप भी जरूर करना चाहेंगे Blood donation

Multi Vitamin: शरीर को ये नुकसान भी पहुंचा सकते हैं: Keep in mind

Heart attack और Cardiac Arrest में क्या है अंतर, जान बचाने…

8 Best Oils for Healthy Hair: Tips for their application

Detox your Skin: Skin fasting is the latest trend

Telegram
WhatsApp
Facebook
LinkedIn
Google-news

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner