Dengue prevention: दिन के किस समय ज्‍यादा Active होता है डेंगू का मच्‍छर: Must know

ध्यान रहे कि डेंगू से बचने की कोई भी वैक्सीन मौजूद नहीं है। इसलिए बचाव के सभी जरूरी उपाय का पालन करते रहें।

282

Last Updated on November 2, 2021 by The Health Master

Dengue prevention: दिन के किस समय ज्‍यादा Active होता है डेंगू का मच्‍छर

भारत के कई हिस्सों में बारिश और मौसम के बदलाव के साथ डेंगू (Dengue) के मामले बहुत तेजी से बढ़ते हुए नजर आ रहे हैं। यही नहीं इस बार डेंगू के नए वेरिएंट के फैलने की वजह से लोगों की चिंता और भी ज्यादा बढ़ गई है।

डेंगू को लेकर चिंता का विषय एक यह भी है कि इससे बचाव के लिए हमारे पास कोई भी वैक्सीन नहीं है। वैक्सीन ना होने की वजह से डेंगू को रोक पाना एक चुनौतीपूर्ण कार्य है।

आपको बता दें कि डेंगू संक्रमण एक खास किस्म के मच्छर के काटने से होता है। लेकिन इस मच्छर के काटने सामान्य मच्छर के काटने में किसी तरह का अंतर मुश्किल ही देखने को मिलता है।

ऐसे में डेंगू से बचे रहने के कुछ ही उपाय शेष रह गए हैं। इसलिए आज हम आपको डेंगू के बारे में जागरूक भी करेंगे और इसके फैलने के शुरुआती लक्षण भी बताएंगे। जिसके जरिए आप इस भयंकर महामारी से बच सकते हैं।

​कब और कहां काटता है डेंगू का मच्छर

डेंगू के मच्छर को लेकर अक्सर कहा जाता है कि यह दिन के समय ज्यादा एक्टिव रहता है, यानी दिन के समय इसके काटने का खतरा सबसे अधिक होता है।

बताया जाता है कि सुबह सूरज निकलने के दो घंटे तक और शाम को सूरज छिपने से कुछ देर पहले तक यह लोगों को अपना शिकार बना लेता है।

हालांकि कई बार यह सूरज डूबने के बाद भी आपको काट सकता है। इसके अलावा डेंगू का मच्छर आमतौर पर लोगों के एंकल, एल्बो आदि को ही अधिक टारगेट करता है।

ध्यान रहे कि इस मच्छर की एक ही बाइट आपको मौत की नींद तक सुला सकती है। इसके एक बार काटने के बाद आपको कई लक्षण भी देखने को मिल सकते हैं।

​डेंगू के लक्षण

अगर आपको ऐसा लग रहा है कि डेंगू आपको किसी भी मच्छर के काटने से हो सकता है, तो आपको बता दें कि आप गलत हैं। डेंगू आपको Aedes Aegypti नाम की मच्छर की प्रजाति के काटने की वजह से ही होता है।

मच्छर की यह प्रजाति मानसून या बारिश के मौसम में सक्रिय रहती है। वहीं यह सर्दियों में जीवित नहीं रहती। डेंगू के मच्छर के काटने के शुरुआती लक्षणों पैरों पर दिख सकते हैं।

इसमें आपके पैरों पर डार्क या सफेद दाग दिखने लगते हैं। इसके अलावा केवल मादा मच्छर ही इंसान और जानवरों को काट सकती हैं। नर मच्छर से डेंगू का खतरा नहीं होता।

​स्किन पर डेंगू के मच्छर का असर

आपको किसी सामान्य मच्छर ने काटा है या डेंगू के मच्छर ने। इसकी पहचान कर पाना थोड़ा कठिन है। ऐसे में डेंगू की समस्या से बचाव ही एक अच्छा विकल्प है।

इसके अलावा बताया जाता है कि डेंगू का मच्छर जिस भी जगह पर काटता है वहां से स्किन अधिक लाल होने लगती हैं और इसमें खुजली भी अधिक होती है।

​कब दिखने लगते हैं लक्षण

डेंगू के मच्छर के काटने के 4 से 10 दिन के बीच में इसके लक्षण दिखने लगते हैं। हालांकि विशेषज्ञों का कहना है कि डेंगू होने के लक्षण मच्छर के काटने के तुरंत बाद भी देखने को मिल सकते हैं।

अगर आप पहले से ही किसी बीमारी का शिकार हैं तो डेंगू के लक्षण आप पर अलग हो सकते हैं। वहीं उम्र के हिसाब से भी डेंगू के लक्षण अलग दिख सकते हैं।

डेंगू के बुखार के साथ इसके नए स्ट्रेन से प्रभावित होने का खतरा भी लोगों में अधिक हो गया है। ऐसे में अगर इस संक्रमण से खुद को पूरी तरह सुरक्षित रखना है या जल्दी ठीक होना है, तो इसके शुरुआती लक्षणों के समय पर ही निदान और उपचार प्रक्रिया का पालन करना जरूरी है।

Dengue vaccine: India developing soon

Dengue vaccine: India developing soon

इसके कुछ शुरुआती लक्षण इस प्रकार हैं

  1. तेज बुखार जिसमें पारा 103 डिग्री फारेनहाइट तक जा सकता है
  2. शरीर में दर्द रहना
  3. ठंड लगना, कमजोरी महसूस करना और थकावट रहना।
  4. जोड़ों और हड्डियों में दर्द रहना।
  5. पेट में दर्द रहना।
  6. स्किन पर निशान और आंखों का लाल होना
  7. मतली और उल्टी होना।

​अब जान लीजिए बचाव के भी तरीके

अगर आप डेंगू की समस्या से पीड़ित नहीं होना चाहते, तो इससे बचने के कुछ तरीके आप जरूर आजमा सकते हैं।

यह उपाय कुछ इस प्रकार हैं।

  1. अपने आस पास सफाई रखें और पानी एकत्रित ना होने दें।
  2. चिड़िया के पानी पीने के बर्तन को साफ रखें और रोज पानी बदले।
  3. पूरे ढके हुए कपड़े पहने, कोशिश करें की शरीर का अंग खुला ना रहे।
  4. मच्छरों से बचने वाली क्रीम या स्प्रे आदि का उपयोग करें।
  5. घर में मच्छरों से राहत पाने के लिए ऑल आउट, या मच्छरदानी का उपयोग करें।
  6. अपनी रोग प्रतिरोधक क्षमता को बेहतर करने के लिए एक सही जीवन शैली और आहार का चुनाव करें।

ध्यान रहे कि डेंगू से बचने की कोई भी वैक्सीन मौजूद नहीं है। इसलिए बचाव के सभी जरूरी उपाय का पालन करते रहें।

डिस्क्लेमर: यह लेख केवल सामान्य जानकारी के लिए है। यह किसी भी तरह से किसी दवा या इलाज का विकल्प नहीं हो सकता। ज्यादा जानकारी के लिए हमेशा अपने डॉक्टर से संपर्क करें।

Health: सर्दियों में हेल्थ के लिए रामबाण है ये 20:30:40 का formula

Is your Tea adulterated ? FSSAI suggests a simple test to identify

Antibiotic लेने से पहले ये बातें जानना बहुत जरूरी: Must read

Dengue: Platelets दान करने से क्या घट सकती हैं donor के शरीर में Platelets:…

Natural Ingredients for Skin brightening and removing Sun Tan

Lab में बनाया नया Mini Brain, इन बीमारियों का इलाज होगा…

Diabetes: Govt ने तय की Sugar की 12 Generic Antidiabetics की…

Best Anti Aging Skin Care Ingredients

8 must have First Aid items at your Home, Car and Office

The truth about Antidepressants

For informative videos by The Health Master, click on the below YouTube icon:

YouTube Icon
Telegram
WhatsApp
Facebook
LinkedIn
YouTube Icon
Google-news

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner