भ्रूण लिंग जांच के रैकेट का पर्दाफाश

447
Police
Picture: Pixabay
2 min. read

रोहतक (हरियाणा)। रोहतक और झज्जर स्वास्थ्य विभाग की संयुक्त टीम ने शहर के मेडिकल मोड़ स्थित एक निजी अल्ट्रासाउंड सेंटर से भ्रूण लिंग जांच के रैकेट से जुड़ा ठग गिरफ्तार किया गया है। जांच में सामने आया है कि कोख में बेटा या बेटी होने का पता चलने की इच्छा रखने वालों को ये गिरोह झांसे में लेकर ठग रहा है। आरोपी झज्जर के गांव डोभ का रहने वाला है।

आरोपी के अनुसार वह ऐसे परिवारों की तलाश करता था, जिनके यहां कोई महिला गर्भवती हो और वो परिवार कोख में बेटा या बेटी होने के बारे में पता करना चाहता हो। इसके बाद अनूप अपने चिकित्सकों से संबंध होने का झूठा हवाला देकर उस परिवार से हजारों रुपए में सौदा करता। फिर गर्भवती का अन्य बीमारी का हवाला दे सेंटर पर सामान्य अल्ट्रासाउंड कराता और परिवार को गर्भ में बेटा या बेटी होने की झूठी बात बता देता।

डिलीवरी से पहले वो परिवार से पैसे वसूल लेता और फिर उस परिवार के हाथ नहीं आता। पुलिस को फिलहाल इस मामले में अनूप के अलावा उसके दोस्त विष्णु की तलाश है। उसके काबू आने के बाद ही पता चलेगा कि इन लोगों ने ऐसे कितने परिवारों को अपना निशाना बनाया है।

जानकारी अनुसार झज्जर स्वास्थ्य विभाग को सूचना मिली थी कि डोभ गांव का अनूप रोहतक के अल्ट्रासाउंड सेंटरों पर भ्रूण लिंग जांच कराने की बात कह लोगों से संपर्क करता है। सूचना की पुष्टि करने के लिए सिविल सर्जन ने रोहतक सिविल सर्जन से संपर्क साध कर संयुक्त छापामारी की प्लानिंग की। प्लानिंग के तहत छापामार टीम में एक गर्भवती महिला व एक अन्य महिला को उसकी बहन बनाकर डोभ गांव निवासी अनूप और विष्णु से संपर्क कराया गया। इसके बाद अनूप ने सेंटर के रिसेप्शन पर जाकर गर्भवती महिला के अल्ट्रासाउंड का रजिस्ट्रेशन करा दिया।

सेंटर पर सामान्य अल्ट्रासाउंड कराने के बाद अनूप ने बाहर आकर महिला को कहा कि बधाई हो, घर में बेटा आने वाला है। अभी 2 हजार रुपए बधाई के अलग से दो। महिला ने ज्यों ही उसे दो हजार रुपए दिए, उसी दौरान टीम ने आरोपी ठग को काबू कर लिया। टीम ने अनूप दलाल को हिरासत में लेने के बाद छह हजार रुपए बरामद किए हैं। झज्जर जिले की स्वास्थ्य कार्यालय की टीम में शामिल वरिष्ठ अधिकारी डॉ. रनबीर सिंह ने बताया कि अल्ट्रासाउंड सेंटर संचालक की भ्रूण लिंग जांच में कोई संलिप्तता नहीं पाई गई है। आरोपी दलाल अनूप को पीएनडीटी एक्ट का उल्लंघन करने के आरोप में गिरफ्तार किया गया है।

मामले की पुष्टि करते हुए मेडिकल मोड़ स्थित निजी अल्ट्रसाउंड सेंटर के संचालक डॉ. बिजेंद्र सिंह का कहना है कि एक गर्भवती महिला अल्ट्रासाउंड कराने के लिए आई थी। एक्ट के तहत महिला का प्रोफार्मा भरवाकर आवश्यक दस्तावेज ले लिए गए थे। जांच के बाद पता चला कि महिला को ठग झूठ बोलकर लाया था कि चिकित्सक उसके जानकार है। सेंटर में नियमों के खिलाफ काम नहीं होता।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here