Medical, Engineering Entrance Exam पास करवाने वाले गिरोह का भंडाफोड़

Gang busted to pass Medical, Engineering Entrance Exam

155
Police Arrest
Picture: Pixabay

पटना। मेडिकल व इंजीनियरिंग की प्रवेश परीक्षाओं में सफलता दिलाने की गारंटी देने वाला एक बडा गैंग पुलिस के हत्थे चढ़ा है। यह गैंग बिहार का है और कई प्रदेशों में सक्रिय था। इसके तार उत्‍तर प्रदेश व हरियाणा से लेकर महाराष्‍ट्र तक देश के कई राज्‍यों में फैले थे। पटना के बोरिंग रोड इलाके में इसका बाकायदा कार्यालय चल रहा था। हरियाणा पुलिस की मदद से पटना पुलिस ने पटना के बुद्धा काॅलाेनी थाना क्षेत्र के विंध्याचल अपार्टमेंट में छापेमारी कर इस गैंग के छह गुर्गों काे गिरफ्तार किया है। पुलिस ने वहां से सौ से अधिक प्रवेश पत्र, फर्जी आधार कार्ड, लैपटॉप व डेस्कटॉप कंप्यूटर व मोबाइल सहित कई कागजात जब्‍त किए हैं। हालांकि, गैंग का सरगना अभी पकड़ में नहीं आ सका है। सूत्रों के अनुसार इसी अपार्टमेंट में एक बाहुबली विधायक के फ्लैट में छापा मारकर कई अपराधियों को हथियार के साथ गिरफ्तार किया गया था। पटना के एसएसपी उपेंद्र शर्मा ने बताया कि पकड़े गये अपराधियों के कारनामों की जांच की जा रही है।

पटना के बोरिंग रोड चौराहे के समीप एक गली में स्थित विंध्याचल अपार्टमेंट से पकड़ गए छह युवक मेडिकल व इंजीनियरिंग प्रवेश परीक्षाओं में सफलता दिलाने का ठेका लेने वाले एक बड़े सॉल्वर गैंग के गुर्गे हैं।  वे पेपर तक लीक करते थे तथा असली परीक्षार्थी के बदले दूसरों को परीक्षा में शामिल कराते थे।  उनके पास गैस पाइपलाइन से जुड़े कुछ दस्तावेज भी मिले हैं। पुलिस को शक है कि वे गैस कंपनी में भी नौकरी दिलाने के नाम पर उगाही कर रहा था। विंध्याचल अपार्टमेंट की तीसरी मंजिल पर स्थित फ्लैट, जहां से ये गुर्गे गिरफ्तार किए गए, पटना के बाढ़ के रहने वाले एक व्यक्ति का है।  वह एक बाहुबली विधायक का करीबी बताया जाता है।

येँ भी पढ़ें  : Corona Positive व्यक्ति के संपर्क में आने पर करें ये 4…

पुलिस इस गैंग तक हरियाणा में दर्ज एफआइआर के आधार पर पहुंची। वहां मेडिकल एंट्रेंस के पेपर लीक मामले में दर्ज एफआइआर में पटना के विवेकानंद मार्ग में कोचिंग चलाने वाले अतुल वत्स का नाम आया था। इस संबंध में महाराष्ट्र के औरंगाबाद जिले में भी एफआइआर दर्ज की गई थी।  हरियाणा पुलिस की सूचना पर पटना पुलिस की विशेष टीम ने छापेमारी कर छह युवकों रमेश, उज्ज्वल उर्फ गजनी, सौरव सुमन, प्रशांत समेत दो अन्य को को गिरफ्तार किया।  इनमें शामिल उज्ज्वल ने फ्लैट किराए पर लिया था।  उसके पिता काफी रसूखदार बताए जाते हैं।

गैंग ने जिस फ्लैट में ऑफिस खोल रखा था, उसी के ठीक बगल में थाना भी है, लेकिन पुलिस को इसकी भनक तक नहीं थी।  हरियाणा पुलिस की सूचना पर जब फ्लैट में छापेमारी की गई तो इस गैंग के कारनामे सामने आए। खास बात यह है कि इस गोरखधंधे में गिरफ्तार आरोपितों में दो सौरव और गजनी की गर्लफ्रेंड भी सहयोगी बताई जा रहीं हैं।  उन्‍होंने अभ्यर्थियों से मोटी रकम गर्लफ्रेंड के बैंक अकाउंट में मंगाई थी।  पुलिस की छापेमारी से पहले दोनों बाजार निकल गईं थीं।

गैंग के गिरफ्तार गुर्गों ने पूछताछ के दौरान पुलिस को बताया है कि बिहार में गैंग का सरगना अतुल है। गैंग के पटना के बोरिंग रोड स्थित ऑफिस को रमेश और उज्जवल चलाते थे। उनके टारगेट पटना के कोचिंग संस्थानों में मेडिकल व इंजीनियरिंग प्रवेश परीक्षाओं की तैयारी करने वाले छात्र हाेते थे। पुलिस पूछताछ में यह भी पता चला है कि 2015 में महराष्ट्र के औरंगाबाद में हुए मेडिकल प्रवेश परीक्षा पेपर लीक में भी इस गैंग का हाथ था।

The Health Master is now on Telegram. For latest update on health and Pharmaceuticals, subscribe to The Health Master on Telegram.