NDPS case: WhatsApp चैट पर ये कहा court ने

NDPS case: the court said this on WhatsApp chat

198
Justice Court
Picture: Pixabay

Last Updated on November 21, 2020 by The Health Master

ऑस्ट्रेलियाई नागरिक पॉल बारटेल्स. बॉलीवुड एक्टर अर्जुन रामपाल की पार्टनर ग्रैबियाला के भाई हैं. पॉल को नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो यानी NCB ने 12 नवंबर को गिरफ्तार किया था. नारकोटिक्स ड्रग्स एंड साइकोट्रॉपिक सब्सटेंस (NDPS) एक्ट  के तहत. उन पर बॉलीवुड सितारों को ड्रग सप्लाई करने के आरोप लगे थे. अब मुंबई की स्पेशल कोर्ट ने उन्हें ज़मानत दे दी है. कोर्ट ने कहा कि केवल वॉट्सऐप चैट के आधार पर ये साबित नहीं किया जा सकता है कि वो ड्रग पेडलर हैं.

अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत की जून में हुई मौत के बाद से बॉलीवुड में ड्रग्स के इस्तेमाल के मामले की जांच एनसीबी कर रही है. एनसीबी ने इस महीने की शुरुआत में अर्जुन रामपाल से भी पूछताछ की थी.

और क्या कहा कोर्ट ने? 

स्पेशल एनडीपीएस कोर्ट ने कहा कि बारटेल्स के खिलाफ एनसीबी के पास कोई पुख्ता सबूत नहीं है. बारटेल्स की ओर से पेश सीनियर वकील आबाद पोंडा और वकील सुभाष जाधव ने दलील दी कि एनसीबी को उनके मुवक्किल के आवास की 11 नवंबर को ली गई तलाशी में कुछ भी आपत्तिजनक नहीं मिला. बारटेल्स पर आरोप है कि उन्होंने एगिसिलाओस डेमेट्रिडस नाम के शख्स के साथ मिलकर ड्रग्स खरीदने की साजिश की.

जस्टिस एच. एस. सतभाई ने अपने आदेश में कहा कि बताया गया है कि बारटेल्स के खिलाफ आरोप सह-आरोपियों एगिसिलाओस डेमेट्रिडस और निखिल सल्दान्हा और आरोपी के साथ कुछ लोगों के मैसेज के आदान-प्रदान पर आधारित है.


येँ भी पढ़ें  : 2022 के बाद पहुंच पाएगी Vaccine आम लोगों तक: AIIMS


कोर्ट ने कहा कि इस तथ्य को ध्यान में रखते हुए कि सह आरोपियों के साथ वॉट्सऐप मैसेज के अलावा, आरोपियों से कोई विरोधाभासी सामग्री नहीं मिली थी. वॉट्सऐप चैट आरोपियों को पेडलर या सप्लायर साबित करने के लिए पर्याप्त नहीं है. इसलिए जमानत को नामंजूर करना सही नहीं होगा.

कोर्ट ने आगे कहा कि अगर भविष्य में NCB किसी तरह का ठोस सामग्री एकत्रित करती है जो बारटेल्स की भूमिका एक ड्रगलर या ड्रग्स के आपूर्तिकर्ता के रूप में प्रदर्शित करता है तब परिदृश्य अलग होगा. लेकिन फिलहाल तथ्य ये है किएनसीबी ने बारटेल्स को गिरफ्तार करने के बाद मैजिस्ट्रेट के सामने पेश किया, लेकिन उसकी हिरासत की मांग नहीं की. जो यह दिखाता है कि एनसीबी के पास आरोपी से पूछताछ करने और आगे की जांच के लिए पर्याप्त सामग्री उपलब्ध नहीं है.


The Health Master is now on Telegram. For latest update on health and Pharmaceuticals, subscribe to The Health Master on Telegram..