Remdesivir: कई राज्यों में नकली रेमडेसिविर बेचने वाले गिरोह का पर्दाफाश: Arrest

अंबाला पुलिस अब तक पांच लोगों को गिरफ्तार कर चुकी है, लेकिन मास्टमाइंड प्रदीप अभी पकड़ से बाहर है।

115

Remdesivir: कई राज्यों में नकली रेमडेसिविर बेचने वाले गिरोह का पर्दाफाश: Arrest

अंबाला, Fake Remdesivir: कुछ लोगों ने महामारी में रातोंरात अमीर बनने के लिए हरियाणा, पंजाब, उत्तराखंड और दिल्ली में हीट्रो कंपनी का लेबल लगाकर नकली रेमडेसिविर इंजेक्शन की खेप ही उतार दी और तीन माह में ही 50 लाख रुपये से अधिक का कारोबार कर डाला।


Hetero के बारे में अन्य आर्टिकल पढने के लिए, यहाँ क्लिक करें


पुलिस का अनुमान है कि हजारों मरीजों को नकली रेमडेसिविर की डोज़ दी गई। यह छानबीन की जा रही है कि ये इंजेक्शन कहां बेचे गए।

अंबाला पुलिस अब तक पांच लोगों को गिरफ्तार कर चुकी है, लेकिन मास्टमाइंड प्रदीप अभी पकड़ से बाहर है।

Police Arrest
Picture: Pixabay

हरियाणा, पंजाब, दिल्ली और उत्तराखंड में फैला नेटवर्क, मास्टरमाइंड की तलाश

बता दें कि 21 अप्रैल को नाइट कर्फ्यू के दौरान अंबाला पुलिस ने दो गाडि़यों में सवार चार लोगों को गिरफ्तार किया था। इनसे रेमडेसिविर के 24 इंजेक्शन बरामद हुए थे।

गिरफ्त में दिल्‍ली के गांधी नगर क्षेत्र के धर्मपुरा निवासी दीपक कुमार, दिल्‍ली के शाहदरा निवासी कर्ण जुनेजा, अंबाला के नग्‍गल निवासी पारस और अंबाला कैंट की डिफेंस कालोनी निवासी कनिष्क है।

पुलिस की प्रारंभिक जांच में पाया कि ये लोग इंजेक्शन की सप्लाई करते हैं, जबकि बनाने वाले आरोपित कोई और हैं।

इसी कड़ी में पुलिस ने यमुनानगर के गौरव को गिरफ्तार किया। पूछताछ में बाबैन के प्रदीप का नाम भी सामने आया है।


Remdesivir के बारे में अन्य आर्टिकल पढने के लिए, यहाँ क्लिक करें


आरोपितों ने हीट्रो कंपनी बैच नंबर इस्तेमाल कर एक इंजेक्शन पर 5400 रुपये का रेट अंकित कर दिया, जबकि मौजूदा समय में यह रेट 3490 रुपये प्रति इंजेक्शन है।

ऐसे में 5400 रुपये से लेकर डिमांड के मुताबिक ग्राहक को ऊंची कीमत पर बेच देते थे।

एक व्यक्ति को चार से पांच इंजेक्शन भी सप्लाई किए गए। कुछ ही दिनों में अन्य राज्यों में इनका नेटवर्क फैल गया। फार्मास्युटिकल लाइन से जुड़े प्रदीप की गिरफ्तारी होनी है, जिसके बाद पता चलेगा कि इस खेल में और कौन-कौन शामिल हैं और वे इंजेक्शन किस तरह से बनाते थे।

” हीट्रो कंपनी ने लिखकर दे दिया है कि बरामद रेमडेसिविर का इंजेक्शन उनकी कंपनी का नहीं है। टेस्ट में भी बरामद इंजेक्शन नकली पाए गए हैं। – डा. कुलदीप सिंह, सीएमओ, अंबाला।

” कई राज्यों से तार जुड़े मिले हैं। जांच में रेमडेसिविर का इंजेक्शन नकली पाया गया है। मुकदमे में कुछ और धाराएं भी जोड़ी जाएंगी।  – हामिद अख्तर, एसपी, अंबाला।


Also read:

CDSCO to remove 8 redundant compliances related to D&C Rules, MD…

ADCs deputed to monitor Remdesivir distribution

IPC holds workshops on standards, testing methods of Medical Oxygen

Gap between doses of Covishield: read to know latest recommendation

6 arrested for black marketing of Remdesivir

Dr Reddy’s launches Ertapenem for Injection in US

Subscribe for daily free updates on Telegram

Follow us on Facebook and Linkedin

For daily free updates on WhatsApp, click here

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner