Narcotics, Antibiotic इत्यादि दवाओं के रिकॉर्ड की जांच: टिटनेस injection seize

औषधि अनुज्ञापन प्राधिकारी विक्रय, आगरा मंडल डा अखिलेश कुमार जैन ने बताया कि माधव कृपा की भी जांच कराई जाएगी। दवाओं के स्टाक को इधर उधर करने की आशंका है।

382
Medicine
Picture: Pixabay

Last Updated on July 21, 2021 by The Health Master

Narcotics, Antibiotic इत्यादि दवाओं के रिकॉर्ड की जांच: टिटनेस injection seize

आगरा। औषधि विभाग की टीम ने माधव ड्रग हाउस और उसके गोदाम पर रविवार को सील खोलकर स्टाक का मिलान किया। नारकोटिक्स, एंटीबायोटिक सहित 17 दवाओं की खरीद बिक्री के रिकार्ड में हेराफेरी मिली है। 10 दवाओं के सैंपल लिए गए हैं। टिटनेस इंजेक्शन को दो से आठ डिग्री तापमान पर नर रखने पर सीज कर दिया है।

औषधि अनुज्ञापन प्राधिकारी विक्रय, आगरा मंडल डा अखिलेश कुमार जैन ने बताया कि 17 दवाओं का कंप्यूटर में दर्ज स्टाक का दुकान और गोल्डन प्लेस स्थित दोनों गोदाम से मिलान कराया गया। कुछ दवाओं का स्टाक ज्यादा मिला तो कई दवाओं का स्टाक कम था।

कंप्यूटर का स्टाक चेक करने के लिए संचालक नवीन अरोरा ने उसके लिए बिलिंग साफ्टवेयर का काम देख रही कानपुर की कंपनी के कर्मचारियों से पफोन पर बात कराई, इसके बाद बिल चेक किए जा सके। रिकार्ड में मिली हेराफेरी पर वह संतोषजनक जवाब नहीं दे सका। बिना बिल के दवाएं खरीदने और बिक्री करने की आशंका है। टेराबेस्ट, डोलोनेक्स, जीफी, एजीथ्रोमाइसिन सहित 10 दवाओं के सैंपल लिए गए हैं।

Online
Picture: Pixabay

टिटनेस इंजेक्शन के सैंपल भेजने के लिए दो से आठ डिग्री तापमान चाहिए, इसलिए सैंपल नहीं लिए हैं। 14640 टिटनेस के इंजेक्शन सीज किए गए हैं। इसके लिए परिवाद दायर किया जाएगा। वहीं, स्टाक में मिली हेराफेरी के लिए माधव ड्रग हाउस के संचालक नवीन अरोरा को नोटिस दिया जाएगा। जवाब मिलने के बाद आगे की कार्रवाई की जाएगी। अभी खरीद बिक्री पर रोक नहीं लगाई है।

गर्भपात किट का स्टाक शून्य, एक ही दिन में खरीदी गई 15 हजार किट

पिछले साल दिसंबर में गर्भपात किट का रिकार्ड चेक किया गया था। इसके बाद से माधव ड्रग हाउस ने गर्भपात किट नहीं खरीदी हैं, स्टाक शून्य मिला है। 2019 और 2020 का रिकार्ड जब्त किया गया है। 19 अप्रैल को एक ही दिन में 15 हजार गर्भपात किट खरीदी गईं, इसके लिए 17 बिल की एंट्री की गई। इसकी बिक्री कहां की, इसका भी ब्योरा मांगा गया है।

माधव कृपा के नाम से एक और फर्म दिसंबर 2020 में गर्भपात किट की अवैध बिक्री का मामला सामने आने के बाद माधव ड्रग हाउस के संचालक नवीन अरोरा के भाई के नाम से जनवरी 2021 में माधव कृपा के नाम से नई फर्म का लाइसेंस औषधि विभाग द्वारा जारी कर दिया गया।

औषधि अनुज्ञापन प्राधिकारी विक्रय, आगरा मंडल डा अखिलेश कुमार जैन ने बताया कि माधव कृपा की भी जांच कराई जाएगी। दवाओं के स्टाक को इधर उधर करने की आशंका है।

गोदाम में मिला स्टाक, कंप्यूटर में स्टाक

मोनोसेफ इंजेक्शन, -800, 26090, लिब्रोक्स नारकोटिक्स -8 बाक्स , 9 बाक्स एजीथ्रोमाइसिन एंटीबायोटिक– 4110, 4954 डेका डुराबिन इंजेक्शन- 258, 5570 वावरन एसआर -116 बाक्स, माइनस में स्टाक मानटेयर एफएक्स- 24 बाक्स, 108 बाक्स न्यूरोबिन फोर्ट -545, 1116.

Procedure to obtain license for Medical Store / Pharmacy

Procedure to obtain license for manufacturing of Medical Devices

Man arrested for selling Actemra Injection for Rs 80,000

Zero-tolerance: Assam CM burns illegal drugs worth ₹163 cr

Role of Covishield and Covaxin on severity of Delta variant: What…

Tips for online consultation with a Doctor

Subscribe for daily free updates

Telegram
WhatsApp
Facebook
LinkedIn

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner